sfdfdf

NTA NEET 2020: रजिस्ट्रेशन भरने का आज अंतिम दिन, जानें कैसे होगी परीक्षा

देश के मेडिकल कॉलेज में भर्ती के लिए होने वाली परीक्षा NTA नेशनल टेस्टिंग एजेन्सी NEET नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट में नामांकन भरने का मंगलवार को अंतिम दिन होगा. आज यानि 31 दिसंबर 2019 को छात्र अपना आवेदन www.ntaneet.nic.in पर ऑनलाइन भर सकेंगे. उसके बाद ऐसा करना संभव नहीं होगा.

भरे गए आवेदन में छात्रों से अगर कोई त्रुटि हो गई है तो वे www.ntaneet.nic.in की साइट पर जाकर 15 जनवरी से 31 जनवरी तक इसमें सुधार कर सकेंगे. लेकिन वे सीमित त्रुटियां ही सुधार पाएंगे. इसलिए छात्रों को अपने पहले ही प्रयास में आवेदन को बिना किसी गलती के भरने का प्रयास करना होगा.

MBBS course reduced to 50 weeks, the change in exam pattern will be implemented from 2019 itself

NTA NEET 2020 परीक्षा 3 मई 2020 को दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक देशभर के अलग-अलग केन्द्रों पर होगी. NEET (UG) 2020 में 180  मल्टिपल च्वाइस क्योश्चन (MCQ) होंगे. प्रत्येक प्रश्न के उत्तर के लिए चार विकल्प दिए जाएंगे. जिसमें से छात्र को एक सही को चुनना होगा. यह परीक्षा ऑनलाइन नहीं होगी. कागज और कलम (पैन) के उपयोग से होगी. NEET परीक्षा कुल 720 अंकों की होगी. इस परीक्षा में फिजिक्स, केमेस्ट्री और बॉयोलोजी (जूलोजी-बॉटनी) के प्रश्न-पत्र होंगे. NEET (UG) 2020 पिछले साल के पेटर्न पर ही होगी.

एम.बी.बी.एस. कोर्स को घटाकर 50 हफ्ते किया गया, एक्जॉम पेटर्न में भी बदलाव, 2019 से ही होगा लागू

सामान्य श्रेणी के छात्रों को NTA NEET 2020 परीक्षा क्वालिफाई करने के लिए 50th percentile यानि 701-134 के बीच अंक लाने होंगे. आरक्षित छात्रों के लिए यह 45th percentile यानि 134-107 अंकों के बीच रहेगा और दिव्यांगों (फिजिकली हेंडिकैप) के लिए यह 40th percentile रहेगा.

www.ntaneet.nic.in पर आवेदन भरते समय सामान्य छात्र को NTA NEET 2020 परीक्षा के लिए 1500 रुपए देने होंगे. EWS और OBC के छात्रों के लिए 1400 रुपए और SC/ST/PWD छात्रों को 800 रुपए देनें होंगे.

What to do after 12th class. Do International Hotel Management

NEET परीक्षा में पिछले साल 14 लाख से ज्यादा बच्चे परीक्षा में बैठे थे. इसमें से 7 लाख 97 हजार बच्चों ने NEET (UG) परीक्षा को क्वालिफाइट किया था. देशभर में 500 से अधिक मेडिकल कॉलेज में केवल 75 हजार सीटें ही MBBS के लिए है. करीब 25 हजार BDS बैचलर इन डेंटल सर्जरी के लिए है. देश में MBBS की सीटें कम होने की वजह से लाखों छात्र क्वालिफाइड होने के बावजूद मेडिकल की पढ़ाई नहीं कर पाते. उन्हें MBBS की पढ़ाई के लिए Abroad जाना पड़ता है. हैदराबाद स्थिति Saraswati Wisdom Academy यानि  www.swacareers.com जैसी अनेक योग्य संस्थाएं हैं जो क्वालिफाइड बच्चों को दुनिया भर के अच्छे मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कराती है. पिछले साल दुनियाभर के मेडिकल कॉलेज में करीब 6 हजार से ज्यादा बच्चों ने दाखिला लिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *